गुमला में आयोजित दक्षिणी छोटानागपुर उज्ज्वला दीदी सम्मेलन में निःशुल्क दूसरी रिफिल भी महिलाओं को मिली

प्रधानमंत्री 12 सितंबर को राज्य में 14 एकलव्य विद्यालय की रखेंगे आधारशिला

आदिवासी बहुल क्षेत्र में कौशल केंद्र, ITI, नर्सिंग कॉलेज प्रारंभ करने की है योजना

कुछ लोग जल, जंगल, जमीन का नारा लगाते रहे–और, हमने संरक्षित किया जल, जंगल और जमीन

राज्य के किसानों सहित गुमला के 90 हजार किसानों कृषि आशीर्वाद की दूसरी क़िस्त दुर्गा पूजा से पहले मिलेगा

गुमला/रांची:- आदिवासी बहुल क्षेत्र का सर्वांगीण विकास और वहां के लोगों को रोजगार व स्वरोजगार प्रदान करना सरकार की प्राथमिकताओं में है। ऐसे क्षेत्रों में आईटीआई, नर्सिंग कॉलेज, कौशल विकास केंद्र, एकलव्य विद्यालय, नवोदय विद्यालय प्रारंभ करने की योजना है। आज ही गुमला में नर्सिंग कॉलेज का उद्घाटन हुआ है। जहां प्रशिक्षण के बाद शत प्रतिशत रोजगार मिलेगा। *झारखंड में 14 एकलव्य विद्यालय के निर्माण कार्य का शिलान्यास करने खुद प्रधानमंत्री रांची आ रहे हैं*। वे इन विद्यालय के साथ साथ नवनिर्मित विधानसभा का साहिबगंज में बंदरगाह का उद्घाटन करेंगे। आज उज्जवला दीदी कार्यक्रम के माध्यम से गुमला में 322 करोड़ की योजनाओं व परिसंपत्तियों का लाभ यहां के वासियों को दिया गया। आप सभी को यह जानने का हक है और हम उसी हक के निमित्त एक पारदर्शी सरकार की तरह कार्य कर रहे हैं। क्योंकि लोकतंत्र में सभी को यह जानने का हक है कि सरकार क्या कर रही है। यह झारखंड व्यक्तिगत तौर पर जितना मेरा है उतना आपका भी है। अगर हम मिलकर कार्य करें तो आने वाले वर्षों में हम झारखंड को एक विकसित राज्य की श्रेणी में खड़ा कर सकते हैं। झारखंड भरपूर संभावनाओं से भरा प्रदेश है। ये बातें मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने गुमला में आयोजित दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल स्तरीय उज्जवला दीदी सह अतिरिक्त रिफिल वितरण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि कहा।

मजदूरी भुगतान मामले में झारखण्ड पूरे देश मे अव्वल

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे इस बात की बहुत खुशी है कि *मनरेगा में समय पर मजदूरों को उनकी मजदूरी उपलब्ध कराने वाला झारखंड देश का पहला राज्य है*। ग्रामीण विकास विभाग बधाई के पात्र है। यह मजदूरों के प्रति विभाग की संवेदनशीलता को दर्शाता है। मुझे याद है 2014 में व्यापार सुगमता मामले में झारखंड का स्थान 29वां था। आज हम चौथे स्थान पर हैं। यह सब राज्य की जनता के सहयोग से संभव हुआ। अब हम पूरे देश में झारखंड का परचम लहराने की ओर अग्रसर हैं।

महिलाओं को सरकार की सहयोगी बनाना है उद्देश्य

श्री रघुवर दास ने कहा कि जिस प्रकार महिलाओं ने रानी मिस्त्री बनकर दुनिया को यह बतलाने का काम किया कि झारखंड की महिलाएं किसी भी क्षेत्र में किसी से कम नहीं और पूरे राज्य में शौचालय का निर्माण कर झारखंड को खुले में शौच से मुक्त कर दिया। ठीक उसी प्रकार उज्ज्वला दीदियां राज्य की महिलाओं को उज्ज्वला योजना से आच्छादित करेंगी। उन्हें दुर्घटना रहित एलपीजी के उपयोग की जानकारी देंगी। सभी उज्ज्वला दीदियों को इस निमित्त प्रशिक्षण दिया जाएगा। 9 सितंबर को सखी मंडल की 70 बहनों को एलपीजी के उपयोग हेतु मास्टर ट्रेनर का प्रशिक्षण मिलेगा जो प्रशिक्षण प्राप्त कर उज्वला दीदियों को प्रशिक्षित करेंगी। यह हर्ष का विषय है कि उज्जवला दीदी की जो परिकल्पना सरकार ने की थी। वह यथार्थ में बदल चुका है। हमने राज्य के सभी प्रमंडल में उज्जवला दीदियों ने अपना कार्य आरंभ कर दिया है। अब हम समावेशी विकास के साथ बिना किसी भेदभाव के सभी को उज्जवला योजना का लाभ देने में और भी सक्षम होंगे। हम कह सकते हैं कि अगर अमीर के घर LPG है तो गरीब के घर उज्ज्वला योजना है।

नारा लगाने वालों ने नहीं, हमने बचाया, जल, जंगल व जमीन

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल, जंगल और जमीन केवल नारा नहीं, हमारी विरासत और अमानत है। जल, जंगल और जमीन का नारा देने वालों ने सबको गुमराह किया, हमने जल जंगल और जमीन को संरक्षित किया है। *तभी तो 2014 से पूर्व राज्य का 29% क्षेत्र वनों से आच्छादित था। आज 2019 में 33% हो गया।* जल जंगल जमीन का नारा लगाने वाले संस्कृति पर हमला करने वाले ये विकास विरोधी शक्ति है। यह सिर्फ आपके बीच दुष्प्रचार करते हैं। यह नहीं चाहते कि आदिवासियों का कल्याण हो। आदिवासी भी समाज की अग्रिम पंक्ति में खड़े हो। ऐसे लोगों को यह बताने का वक्त आ गया है कि आदिवासी समाज अब जाग गया है, जागरूक हो गया है।

पूरे राज्य के किसानों सहित गुमला के 90 हजार किसानों को दूसरा किस्त जल्द

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे राज्य के किसानों सहित गुमला के 90 हजार किसानों को मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के तहत पहली किस्त दी जा चुकी है। *दुर्गा पूजा से पहले दूसरी किस्त किसानों के खाते में पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।* पूरे राज्य के 35 लाख किसानों को 3 हजार करोड़ रूपये वितरित किया जाएगा। यह सब कृषि कार्य हेतु संसाधन को जुटाने के लिए दिया जा रहा है। ताकि राज्य के किसानों ने जिस प्रकार 2014 से पूर्व –4% कृषि विकास दर को 2019 में 14% कर दिया उन्हें और सशक्त कर कृषि विकास दर को और ऊंचा किया जा सके।

सरकार योजनाओं को धरातल पर उतार रही है

विधानसभा अध्यक्ष श्री दिनेश उरांव ने कहा कि हमें अपनी जिम्मेदारियों को पूरी तन्मयता के साथ पूरा करना चाहिए। राज्य सरकार योजनाओं को धरातल पर उतारने का कार्य कर रही है। उज्ज्वला योजना के तहत राज्य के लाभुकों को सिलेंडर के साथ रेगुलेटर, चूल्हा और अतिरिक्त रिफिल भी दिया जा रहा है। सरकार बिना किसी भेदभाव के उज्ज्वला योजना, आयुष्मान भारत योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना समेत तमाम योजनाओं का लाभ हर जरूरतमंद तक पहुंचा रही है। अब लगता है अलग राज्य के विकास की जो परिकल्पना लोगों ने की थी। वह पूर्ण होगा। मुख्यमंत्री जी से एक अनुरोध है कि जिस तरह राज्य के अन्य जिलों में प्रेस क्लब का गठन किया गया है। उस तरह गुमला में भी प्रेस क्लब के गठन की स्वीकृति प्रदान करें।

4 लाख 84 हजार आवासों तक पहुंचेगा LPG कनेक्शन

ग्रामीण विकास व संसदीय कार्य मंत्री श्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि इस तरह का सम्मेलन पहले नहीं होता था। लेकिन वर्तमान सरकार इस तरह का सम्मेलन का आयोजन कर रही है। मेरा मानना है कि अगर झारखंड को विकसित राज्य बनाना है, तो राज्य की महिलाओं का सशक्तिकरण बेहद जरूरी है। उस निमित्त सरकार लगातार कार्य कर रही है। उज्जवला योजना का अभिप्राय भी महिलाओं का सशक्तिकरण है, इससे एक ओर महिलाओं को धुआं से मुक्ति मिल रही है मिलेगी साथ ही पर्यावरण संरक्षण को भी बल मिलेगा। क्योंकि पर्यावरण व जंगल का संरक्षण अब बेहद जरूरी हो गया है। गुमला जिला में बने 4 लाख 84 हजार प्रधानमंत्री आवास तक हमें उज्जवला योजना का लाभ पहुंचाना है। कुछ आवासों तक लाभ पहुंच चुका है शेष तक लाभ पहुंचाने का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है।

25 प्रतिशत से 77 प्रतिशत आआबादी तक पहुंचा कनेक्शन

राज्य 20 सूत्री उपाध्यक्ष श्री राकेश प्रसाद ने कहा कि 2014 से पूर्व तक राज में 25% एलपीजी कनेक्शन था 2014 के बाद 2019 तक यह प्रतिशत यह 77% हो गया। 1001 उज्ज्वला पंचायत लगाकर लाभुकों को उज्जवला योजना का लाभ दिया जा रहा है। यह वादा पूरा करने वाली सरकार है। गरीबों के लिए समर्पित सरकार है। सरकार ने 33 लाख परिवारों को अब तक उज्जवला योजना से आच्छादित किया है आने वाले दिनों में शेष करीब 10 लाख लाभुकों को इस योजना का लाभ मिलेगा। वर्तमान सरकार ने अपने 5 साल के कार्यकाल में 40 लाख शौचालय का निर्माण कर पूरे राज्य को खुले में शौच से मुक्त किया। जबकि विगत 14 साल में मात्र 28 लाख शौचालय का निर्माण राज्य में हुआ था। 2014 से पूर्व 38 लाख घरों में बिजली पहुंची थी। वर्तमान सरकार ने 5 वर्ष में 30 लाख घरों तक बिजली पहुंचा दी। इससे स्पष्ट होता है कि सरकार की नीयत और नीति कैसी है।

इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री नीलकंठ सिंह मुंडा, लोहरदगा सांसद श्री सुदर्शन भगत, विधानसभा अध्यक्ष डॉ दिनेश उरांव, विधायक श्री शिवशंकर उरांव, विधायक सिमडेगा श्रीमती विमला प्रधान, खिजरी विधायक श्री रामकुमार पाहन, राज्य 20 सूत्री के उपाध्यक्ष श्री राकेश प्रसाद, उपयुक्त श्री शशि रंजन, आरक्षी अधीक्षक श्री अंजनी कुमार झा, जिला 20 सूत्री के अध्यक्ष, उपाध्याय, उज्ज्वला दीदियां व बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.