आजसू संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद सुदेश ने बताया, किस मोड़ पर है गठबंधन

रांची: झारखंड में प्रथम चरण विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया अंतिम चरणों में है, लेकिन अबतक एनडीए में सीटों का बंटवारा नहीं हो पाया हैं। सीटों को लेकर भाजपा के साथ आजसू का खींचतान जारी है। पिछले दो दिनों से दिल्ली में भाजपा चुनाव समिति की हो रही बैठक में आजसू को सीट शेयरिंग पर फैसला अटका हुआ है। इस बीच आजसू पार्टी सुप्रीमो सुदेश महतो ने दिल्ली में अपनी बातों को भाजपा के शीर्ष नेताओं को रख दिया है। ऐसा कयास लगाया जा रहा था कि रविवार तक एनडीए में आजसू का मामला सोल्भ हो जाएगा, लेकिन अबतक नहीं हो पाई है। वहीं आजसू प्रदेश कार्यालय में आजसू संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए सुदेश महतो ने कहा कि पार्टी ने जिन विधानसभा क्षेत्रों में तैयारी की है और उन सीटों पर पार्टी विधानसभा चुनाव लड़ना चाहती है। पार्टी की बातों को हमने भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को रख दिया है। अब उनको निर्णय करना है। उन्होंने कहा कि पहले पार्टी ने 26 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया था। बाद में हमने बातचीत कर 19 कर दिया है। पार्टी इससे कम सीटों पर चुनाव नहीं लड़ेगी। पार्टी 14 को अपना घोषणा पत्र जरी करेगी। साथ ही 11 को लोहरदगा में चूल्हा प्रमुख सम्मेलन का आयोजन होगा। रांची में आजसू संसदीय बोर्ड की बैठक हुई। बैठक की अगुवाई सुदेश कुमार महतो ने की। साथ ही पार्टी के सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी भी मौजूद थे। सुदेश महतो ने कहा कि भाजपा के साथ सीटों की हिस्सेदारी को लेकर बातचीत जारी है। रविवार को वे भाजपा के बुलावे पर फिर दिल्ली गए। वहां भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करेंगे। सुदेश महतो ने कहा कि गठबंधन और सीटों की शेयरिंग के साथ झारखंडी हित से जुड़े की मुद्दे भी हैं, जिनपर भाजपा से बात होनी है। यह हमारे लिए अहम है। सुदेश कुमार महतो ने बताया कि 11 नवंबर को पार्टी के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की जाएगी, जबकि 14 नवंबर को घोषणा पत्र जारी की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि भाजपा के साथ गठबंधन को लेकर 19 सीटों की सूची सौंपी गई है। दो दिनों पहले भी सीट शेयरिंग को लेकर भाजपा के शीर्ष नेताओं से बातचीत हुई थी। उन्होंने कहा कि आजसू सीटों में हिस्सेदारी के साथ झारखंड के कुछ अहम मुद्दों पर बातचीत की पक्षधर है। चुनाव के साथ उन पर भी हम सहमति बनाना चाहते हैं। इसलिए सिर्फ सीटों को लेकर चर्चा नहीं होगी, बल्कि राज्यहित से जुड़े कई सारे वैधानिक मुद्दों पर भी बात होगी। उन्होंने कहा कि आजसू पार्टी ने उन्हीं सीटों की सूची भाजपा को सौंपी है जिन पर हम बहुत पहले से तैयारियां कर रहे हैं। भाजपा का भी मानना है कि जहां जो मजबूत स्थिति में है उसके लिए सीट छोड़ी जानी चाहिए। आजसू प्रमुख ने दावा किया कि पिछले पांच सालों में हमारा संगठन मजबूत हुआ है। 2014 में आजसू पार्टी ने सरकार को स्थायित्व देने को त्याग किया था। अभी वैसी बात नहीं है। परिस्थितियां बदली हैं। लोहरदगा और चंदनक्यारी विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने के बारे में उन्होंने कहा कि ये सीटें हमारी प्राथमिकता में हैं। पार्टी की तैयारी जहां से पूरी हो चुकी है वहां से हम चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि झारखंड के स्वाभिमान की रक्षा के लिए आजसू पार्टी प्रतिबद्ध है। पार्टी हमेशा जनभावना के साथ काम करती रही है। हमारे लिए क्षेत्रीय और झारखंडी विषय भी महत्वपूर्ण हैं। प्रेसवार्ता में केंद्रीय उपाध्यक्ष और सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी, केंद्रीय महासचिव और मंत्री रामचंद्र सहिस, हसन अंसारी, केंद्रीय प्रवक्ता डा. देवशरण भगत तथा बुद्धिजीवी मंच प्रमुख डोमन सिंह मुंडा भी उपस्थित थे। बैठक में गटबंधन और उम्मीदवारों के लेकर चर्चा की गई। आज आजसू पार्टी उम्मीदवारों की पहली सूची भी जारी करेगी। सोमवार को ही लोहरदगा में नीरू शांति आजसू पार्टी की तरफ से नामांकन दाखिल करेंगी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.