ठंढ की चपेट में पूरा बिहार,और गिरेगा पारा, कई ट्रेनें रद्द

पटना : इन दिनों पूरा प्रदेश ठंढ की चपेट में है। इसके कारण से ठिठुरन काफी बढ़ गयी है। गुरुवार को पूरे प्रदेश में दिन का तापमान सामान्य से औसतन सात डिग्री नीचे चला गया है।

केवल 24 घंटे में तीन से चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गयी है। पिछले 10 दिनों में अधिकतम तापमान में औसतन 6 डिग्री, जबकि न्यूनतम तापमान में औसतन 5.25 डिग्री सेल्सियस की कमी आयी है। मौसम विभाग की माने तो पूरे प्रदेश में दिन के तापमान में लगातार कमी आ सकती है। अगले 48 घंटे में तापमान 3 से 4 डिग्री सेल्सियस नीचे जाने का पूर्वानुमान है। साथ ही नये साल की शुरुआत से ठीक पहले से लेकर जनवरी के पहले सप्ताह तक हल्की बारिश का भी पूर्वानुमान है।
ठंड बढ़ने के कारण जहां अस्पतालों में ब्रेन हैमरेज, निमोनिया व दमा के मरीजों की संख्या काफी बढ़ गयी है, वहीं ट्रेन व विमान सेवा बाधित हो गयी है। गुरुवार को पूर्णिया में दिन का तापमान सामान्य से 9 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। भागलपुर और पूर्णिया में सीवियर कोल्ड डे की स्थिति बनी रही।प्रदेश भर में दिन का तापमान गिर कर 15-17 डिग्री सेल्सियस के बीच सिमट गया है। पटना में दिन का तापमान सबसे कम 16 डिग्री सेल्सियस रहा। भागलपुर में 17 और गया में 16.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पूर्णिया में दिन का तापमान सामान्य से 9.2 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। पूर्णिया में दिन का तापमान 16.5 डिग्री सेल्सियस रहा। सबोर में न्यूनतम तापमान सुबह 7.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
जबकि शीतलहर आना अभी बांकी है
इस मौसम का असर विमान व ट्रेन सेवा पर भी पड़ा है। पिछले एक सप्ताह में 100 से अधिक विमान देर से उड़े। 10 फ्लाइटें रद्द हुई, जबकि दो डायवर्ट व एक ग्राउंडेड हुई। हर दिन उड़ान भरने वाली 41 जोड़ी विमानों में लगभग 50% विलंब से चल रही हैं। वहीं, बीते एक हफ्ते में राजधानी व संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस जैसी प्रीमियम ट्रेनों से लेकर अधिकतम ट्रेनें घंटों विलंब से चल रही हैं।

इस अवधि में राजधानी जहां डेढ़ से आठ घंटे तक लेट रही, वहीं संपूर्ण क्रांति भी दो से आठ घंटे तक लेट हुई। लेटलतीफी की वजह से ट्रेनों की रिशिड्यूलिंग होने से यात्रियों को स्टेशन पर ही रात बितानी पड़ रही है। कुहासे को देखते हुए पूर्व मध्य रेल प्रशासन ने पहले ही 12 जोड़ी ट्रेनों को रद्द कर दिया था, जबकि 19 जोड़ी ट्रेनों को सप्ताह में एक से तीन दिन तक रद्द रखा गया है।