लालू प्रसाद इसबार भी जेल में ही मकर संक्रांति में दही-चूड़ा और तिल-गुड़ का लेंगे आनंद

रांची: पर्व-त्योहारों को अपने खास अंदाज में मनाने के लिए देशभर में चर्चित राजनेता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव एकबार फिर जेल में ही मकर संक्रांति मनाएंगे। बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल के कैदी नंबर 3351 लालू के लिए यह लगातार तीसरा साल होगा जब वे रांची के रिम्स में सकरात में दही-चूड़ा और तिल-गुड़ का आनंद लेंगे। हालांकि उनकी सेहत को देखते हुए डॉक्टरों ने अभी खान-पान पर कई पाबंदियां लगा रखी हैं, उन्हें कई खाद्य पदार्थों से दूर रखा जा रहा है। चिकित्सकों की देखरेख में वे प्रायः परहेज में रहते हैं। इस लिहाज से वे अबकी बार भी मकर संक्रांति पर डॉक्टरों से पूछकर ही सीमित मात्रा में दही-चूड़ा खाएंगे। इसबार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की गैर हाजिरी में बिहार में उनकी पार्टी राजद की ओर से भी सकरात। मालूम हो कि चारा घोटाले के चार मामलों के सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव बिहार में अपने आवास पर संक्रांति भोज के लिए भी खासे मशहूर रहे हैं। तब मुख्यमंत्री के अपने शासनकाल में लालू सकरात भोज के जरिए सियासी गलियारे में सामाजिक एकता का संदेश देते थे। इस भोज में दिग्गजों की जमात जुटती थी और इसे सोशल इंजीनियरिंग के समीकरणों को साधने का बेहतर मंच माना जाता था। भोज का आयोजन नहीं किया गया है। कतरनी चूड़ा, ढेला जैसा दही और आलूदम की तैयारी के साथ मकर संक्रांति पर चूड़ा-दही भोज करने वाले लालू प्रसाद अपने जमाने में संगी-साथियों और समर्थकों को बुलाकर सुबह से ही सकरात में रम जाते थे। नेता-कार्यकर्ता के साथ बिहार के कोने-कोने के आम-ओ-खास को सकरात भोज के लिए बजाप्ता आमंत्रण दिया जाता था। तब मकर संक्रांति पर एक पखवारे पहले से ही लालू आवास पर होनेवाले भोज के लिए कतरनी चूड़ा का स्टॉक जुटाया जाता और ढेला जैसा दही जमाने का प्रबंध होता था। चटपटे आलूदम और मीठे-कुरमुरे तिलकुट की भी खूब तैयारी होती थी। वर्तमान में बतौर कैदी रांची के रिम्स में अपनी 11 गंभीर बीमारियों का इलाज करा रहे लालू प्रसाद यादव को रोजाना 80 यूनिट इंसुलिन दिया जा रहा है। वे किडनी फेल्योर, अनियमित ब्लड शूगर और रक्तचाप के उतार-चढ़ाव से जूझ रहे हैं। ऐसे में उनकी संक्रांति पर कमोबेश डॉक्टरों की मर्जी भारी पड़ रही है। रिम्स में लालू की देखरेख करने वाली डॉक्टरों की टीम के हवाले से रिम्स निदेशक डॉ विवेक कश्यप ने बताया कि लालू की सेहत अब भी अस्थिर है। ऐसे में लालू को डायट चार्ट फॉलो करने की कड़ी हिदायत दी गई है। इधर, चारा घोटाले के देवघर कोषागार मामले में झारखंड हाईकोर्ट से मिली लालू प्रसाद यादव की जमानत को खारिज कराने केंद्रीय जांच एजेंसी सुप्रीम कोर्ट पहुंची है। इस मामले में लालू को आधी अवधि की सजा काट लेने के बिना पर उच्च न्यायालय ने जमानत दी है, जबकि सीबीआई का कहना है कि निचली अदालत द्वारा एक हाई लेवल कांस्पिरेटर करार दिए जाने के बाद उसने लालू के लिए सजा बढ़ाने की मांग करते हुए याचिका दाखिल की है। ऐसे में लालू की जमानत को खारिज किया जाना चाहिए। सीबीआई की इस याचिका को झारखंड हाईकोर्ट ने सुनवाई योग्य मानते हुए इस पर बहस की तारीख तय कर दी है। इधर, चारा घोटाले के दुमका कोषागार मामले में लालू को झटका देते हुए कुछ दिन पहले ही झारखंड हाईकोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी है। इस मामले में भी लालू ने आधी सजा काटने का हवाला देते हुए बेल देने की मांग की थी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.